परिचय NCERT Solution class 12 Microeconomics – यहाँ पर नीचे कक्षा ’12’ के “व्यष्‍टि अर्थशास्त्र” एनसीईआरटी पुस्तक के पहले अध्याय ‘परिचय’ के सभी प्रश्न व उनके उत्तर दिए जा रहे हैं।यह सभी प्रश्न व उत्तर (PDF Form) में भी उपलब्ध हैं।

परिचय NCERT Solution class 12 Microeconomics (व्यष्‍टि अर्थशास्त्र): Introduction Chapter 1 (Hindi Medium)

CHAPTER 1: परिचय (TEXTBOOK SOLUTIONS);

Page 8

प्रश्न 1. अर्थव्यवस्था की केंद्रीय समस्याओं की विवेचना कीजिए।

उत्तर:  अर्थव्यवस्था की तीन केंद्रीय समस्याएँ निम्नलिखित हैं:

  1. क्या उत्पादन किया जाए और कितनी मात्रा में?: प्रत्येक समाज को यह निर्णय करना होता है कि किन वस्तुओं का उत्पादन किया जाए और कितनी मात्रा में। एक अर्थव्यवस्था को यह निर्धारित करना पड़ता है कि वह खाद्द पदार्थों का उत्पादन करें या मशीनों का, शिक्षा एवं स्वास्थ्य पर खर्च करें या सैन्य सेवाओं के गठन पर, उपभोक्ता वस्तुएँ बनाए या पूंजीगत वस्तुएँ। निर्णायक सिद्धांत है कि ऐसे संयोजन का उत्पादन करें जिससे कुल समाप्त उपयोगिता अधिकतम हो।
  2. स्तुओं का उत्पादन कैसे किया जाए?: प्रत्येक समाज को निर्णय करना पड़ता है कि विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं से उत्पादन करते समय किस-किस वस्तुया सेवा में किस-किस संसाधन की कितनी मात्रा का उपयोग किया जाए। अधिक श्रम का उपयोग किया जाए अथवा मशीनों का? प्रत्येक वस्तु के उत्पादन के लिए उपलब्ध तकनीकों में से किस तकनीक को अपनाया जाए?
  3. किसके लिए उत्पादन किया जाए: अर्थव्यवस्था में उत्पादित वस्तुओं की कितनी मात्रा किसे प्राप्त होगी? अर्थव्यवस्था के उत्पाद को व्यक्ति विशेष के बीच किस प्रकार विभाजित किया जाना चाहिए? किसको अधिक मात्रा प्राप्त होगी तथा किसको कम? यह सुनिश्चित किया जाए अथवा नहीं कि अर्थव्यवस्था की सभी व्यक्तियों को उपभोग की न्यूनतम मात्रा उपलब्ध हो? ये सभी भी अर्थव्यवस्था की केंद्रीय समस्या हैं।

प्रश्न 2. अर्थव्यवस्था की उत्पादन संभावनाओं से आपका क्या अभिप्राय है?

उत्तर: अर्थव्यवस्था की उत्पादन संभावनाओं से हमारा अभिप्राय वस्तुओं और सेवाओं के उन संयोगों से है, जिन्हे अर्थव्यवस्था में उपलब्ध संसाधनों की मात्रा तथा उपलब्ध प्रौद्योगिकीय ज्ञान के द्वारा उत्पादित किया जा सकता हैं।

प्रश्न 3. सीमांत उत्पादन संभावना क्या है?

उत्तर: सीमांत उत्पादन संभावना से अभिप्राय उस वक्र से है, जो दो वस्तुओं के उन संयोगों को दर्शाती है, जिनका उत्पादन अर्थव्यवस्था के संसाधनों का पूर्ण रूप से उपयोग करने पर किया जाता है। यह एक वस्तु की एक अतिरिक्त इकाई प्राप्त करने की अवसर लागत है।
उदाहरण के लिए: एक किसान के पास 50 एकड़ कृषि योग्य भूमि है। वह इस पर गेहूँ या गन्ना या फिर दोनों की खेती कर सकता है। एक एकड़ भूमि पर 2.5 टन गेहूँ या फिर 80 टन गन्ने का उत्पादन हो सकता है। गेहूँ का अधिकतम उत्पादन (2.5 x 50) 125 टन होगा जबकि गन्ने का अधिकतम उत्पादन (80 x 50) 4,000 टन होगा। गेहूँ और गन्ने की अधिकतम उत्पादन मात्रा को जोड़कर सीमांत उत्पादन संभावना वक्र को प्राप्त किया जा सकता है।

प्रश्न 4. अर्थशास्त्र की विषय-वस्तु की विवेचना कीजिए।

उत्तर: अर्थशास्त्र की विषय-वस्तु आर्थिक इकाइयों का आर्थिक व्यवहार है जो वे व्यक्तिगत रूप में अथवा समूहों के रूप में करती है। अर्थशास्त्र की विषय-वस्तु को मुख्य रूप से दो भागों में बांटा जाता है:

  1. व्यष्टि अर्थशास्त्र
  2. समष्टि अर्थशास्त्र

विशिष्ट अर्थशास्त्र और समष्टि अर्थशास्त्र में अध्ययन किए जाने वाले विषय निम्नलिखित है:

  1. व्यष्टि अर्थशास्त्र: व्यष्टि अर्थशास्त्र में व्यक्तिगत आर्थिक इकाइयों के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है, जैसे एक उपभोक्ता, एक गृहस्थ, एक उत्पादक तथा एक फर्म इत्यादि।
  2. समष्टि अर्थशास्त्र: समष्टि अर्थशास्त्र में संपूर्ण अर्थव्यवस्था के स्तर पर आर्थिक समस्याओं अथवा आर्थिक समूहों के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है; जैसे राष्ट्रीय आय, रोज़गार, सामान्य कीमत स्तर आदि।
व्यष्टि अर्थशास्त्र की विषय-वस्तु  समष्टि अर्थशास्त्र की विषय-वस्तु
1. उपभोक्ता का सिद्धान्त 1. राष्ट्रीय आय तथा रोज़गार
2. उत्पादक व्यवहार सिद्धान्त 2. राजकोषीय और मौद्रिक नीतियाँ
3. कीमत निर्धारण 3. अपस्फीति तथा स्फीति
4. कल्याण अर्थशास्त्र 4. सरकारी बजट, विनिमय दर और भुगतान शेष

प्रश्न 5. केंद्रीकृत योजनाबद्ध अर्थव्यवस्था तथा बाज़ार अर्थव्यवस्था के भेद को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: 

केंद्रीकृत योजनाबद्ध अर्थव्यवस्था  बाज़ार अर्थव्यवस्था
1. इस अर्थव्यवस्था में सभी उत्पादन साधनों पर सरकारी स्वामित्व होता है। 1. इस अर्थव्यवस्था में उत्पादन साधनों पर निजी स्वामित्व होता है। अर्थव्यवस्था में व्यक्तियों को संपत्ति रखने व उत्तराधिकार का अधिकार होता है।
2. इस अर्थव्यवस्था में सभी आर्थिक क्रियाओं का उद्देश्य सामाजिक कल्याण होता है। अर्थव्यवस्था में उत्पादन के लिए चल रही गतिविधियों का उद्देश्य समाज की आवश्यकताओं को पूरा करना होता है। 2. इस अर्थव्यवस्था में सभी आर्थिक क्रियाओं का उद्देश्य व्यक्तिगत लाभ कमाना होता है। इसमें उत्पादन केवल लाभ के उद्देश्य से किया जाता है और सामाजिक कल्याण को नजर-अंदाज किया जाता है।
3. केंद्रीकृत योजनाबद्ध अर्थव्यवस्था में माँग और पूर्ति की शक्तियों की स्वतंत्र अंतक्रिया का अभाव होता है। 3. इस अर्थव्यवस्था में माँग और पूर्ति की शक्तियों की स्वतंत्र अंत-क्रिया का पूर्ण वर्चस्व होता है।
4. इसमें सरकार उत्पादकों और परिवारों के निर्णय में हस्तक्षेप करती है। 4. इसमें सरकार उत्पादकों और परिवारों के निर्णय में कोई हस्तक्षेप नहीं करती है।
5. इसमें पूँजी के संचय की अनुमति नहीं दी गई है। 5. अधिकारों के कारण पूँजी के संचय की अनुमति दी गई है।
6. इसमें केंद्रीय समस्याओं का हल आर्थिक नियोजन द्वारा किया जाता है। 6. इसमें केंद्रीय समस्याओं का हल कीमत तंत्र द्वारा स्वत: ही हो जाता है।

प्रश्न 6. सकारात्मक आर्थिक विश्लेषण से आपका क्या अभिप्राय है?

उत्तर: सकरात्मक आर्थिक विश्लेषण से अभिप्राय उस विश्लेषण से है जिसमें हमें अध्ययन करते हैं की विभिन्न तंत्र किस प्रकार से कार्य करते हैं। यह विश्लेषण विभिन्न आर्थिक तंत्र के क्रियाकलापों का मूल्यांकन करता है।

प्रश्न 7. आदर्शक आर्थिक विश्लेषण से आपका क्या अभिप्राय है?

उत्तर: आदर्श आर्थिक विश्लेषण से हमारा अभिप्राय उस अध्ययन से है जिसका संबंध सीधे तौर-पर आदर्शों से होता है। आदर्श आर्थिक विश्लेषण के अंतर्गत हम यह समझने का प्रयास करते हैं कि विभिन्न कार्यविधियाँ हमारे अनुकूल हैं भी या नहीं। उदाहरण के लिए जब हम कहते हैं कि सिगरेट और शराब की माँग कम करने के लिए उनके ऊपर कर की दरें बढ़ा देनी चाहिए तो यह आदर्शक विश्लेषण है।

प्रश्न 8. व्यष्टि अर्थशास्त्र तथा समष्टि अर्थशास्त्र में अंतर स्पष्ट कीजिए।

व्यष्टि अर्थशास्त्र समष्टि अर्थशास्त्र
1. इसके अंतर्गत व्यक्तिगत आर्थिक इकाइयों का अध्ययन किया जाता है। जैसे: एक उपभोक्ता, एक फर्म  आदि। 1. इसके अंतर्गत सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था के आर्थिक समूहों का अध्ययन किया जाता है। जैसे: सामूहिक माँग, सामूहिक पूर्ति।
2. इस शाखा की मुख्या समस्या संसाधनों का आबटन हैं अथवा कीमत निर्धारण हैं। 2. इस शाखा की मुख्या समस्या आय एवं रोज़गार की समस्या हैं।
3.  व्यष्टि अर्थशास्त्र में सरकारी हस्तक्षेप का स्तर काफी सीमित होता हैं। 3. समष्टि अर्थशास्त्र में सरकारी हस्तक्षेप का स्तर काफी ऊँचा होता हैं।
4. इसका क्षेत्र सीमित है। इसमें महत्वपूर्ण नीतियों एवं समस्याओं जैसे राजस्व नीति, मौद्रिक नीति आदि का  अध्ययन नहीं किया जा सकता। 4. इसका क्षेत्र विस्तृत है। इसमें महत्वपूर्ण आर्थिक नीतियों एवं समस्याओं का संपूर्ण अध्ययन किया जा सकता है।

परिचय NCERT Solution class 12 Microeconomics